110+ Rahat Indori Shayari in Hindi That will Inspire You

Rahat Indori Best Hindi Shayari Collection: Today we are going to provide a famous person Hindi Shayari, SMS, and quotes. His name is Dr. Rahat Indori. If you are searching for Shayari in Hindi to inspire yourself. Then this post just for you. We have collected for you 110+ Rahat Indori Shayari in Hindi which will change your life.

Dr. Rahat Indori was born on 1 January 1950. He is the most famous person in the world. He completed his graduation from Islamia Karimia College. He is an Indian Bollywood lyricist and Urdu poet. He wrote many books and Hindi lyrics. Unfortunately, he was dead 11 August 2020 by Attack Corona Virus.

Here we have provided Rahat Indori Top Hindi Shayari and Quotes that will really inspire you.

Rahat Indori Shayari in Hindi

[su_note note_color=”#fff2cf”]फूलों की दुकानें खोलो, खुशबु का ब्योपार करो… इश्क़ खता है, तो ये खता, इक बार नहीं…. सौ बार करो….[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]बोतलें खोल कर तो पी बरसों आज दिल खोल कर भी पी जाए[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]रोज तारों को नुमाइश में खलल पता है चांद पागल है अंधेरे में निकल पड़ता है[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]आँख में पानी रखो होंटों पे चिंगारी रखो ज़िंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]घर के बाहर ढूंढता रहता हूं दुनिया घर के अंदर दुनिया डेरी रहती है[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]मेरी ख़्वाहिश है कि आँगन में न दीवार उठे मिरे भाई मिरे हिस्से की ज़मीं तू रख ले[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]रोज़ तारों को नुमाइश में ख़लल पड़ता है चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]राज़ जो कुछ हो इशारों में बता भी देना, हाथ जब उससे मिलाना तो दबा भी देना[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]शहरों में बारूदों का मौसम है गांव चलो ये अमरूदों का मौसम है[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]राज़ जो कुछ हो इशारों में बता भी देना हाथ जब उनसे मिलना थोड़ा दबा भी देना[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]सूरज सितारे चाँद मेरे साथ में रहे जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहे[/su_note]

 

Check Also: Mirza Ghalib Hindi Shayari & Quotes

Best Shayari Of Dr Rahat Indori

[su_note note_color=”#fff2cf”]ऐसी सर्दी है कि सूरज भी दुहाई मांगे जो हो परदेस में वो किससे रज़ाई मांगे[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]तूफ़ानों से आँख मिलाओ, सैलाबों पर वार करो मल्लाहों का चक्कर छोड़ो, तैर के दरिया पार करो[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]अपने हाकिम की फकीरी पे तरस आता है जो गरीबों से पसीने की कमाई मांगे[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]बहुत ग़ुरूर है दरिया को अपने होने पर जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियां उड़ जाएं[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]मेरा नसीब, मेरे हाथ कट गए वरना मैं तेरी माँग में सिन्दूर भरने वाला था[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]कहीं अकेले में मिल कर झिंझोड़ दूँगा उसे जहाँ जहाँ से वो टूटा है जोड़ दूँगा उसे मोड़ होता है जवानी का सँभलने के लिए और सब लोग यहीं आ के फिसलते क्यूं हैं[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]इन रातों से अपना रिश्ता जाने कैसा रिश्ता है नींदें कमरों में जागी हैं ख़्वाब छतों पर बिखरे हैं[/su_note]

Inspiring Shayaris By Rahat Indori

[su_note note_color=”#fff2cf”]तुफानो से आँख मिलाओ, सैलाबों पे वार करो मल्लाहो का चक्कर छोड़ो, तैर कर दरिया पार करो[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]सफ़र की हद है वहां तक की कुछ निशान रहे चले चलो की जहाँ तक ये आसमान रहे[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]सूरज, सितारे, चाँद मेरे साथ में रहें जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहें[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]कभी महक की तरह हम गुलों से उड़ते हैं कभी धुएं की तरह पर्वतों से उड़ते हैं[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]लोग हर मोड़ पर रुक – रुक के संभलते क्यों है इतना डरते है तो फिर घर से निकलते क्यों है[/su_note]

Rahat Indori Shayari in Hindi 2 Line

[su_note note_color=”#fff2cf”]नीम के रस मे मिला जब ज़हेर मीठा हो गया झूट उसने इस कदर बोला के सच्चा हो गया[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]आँख में पानी रखो होंटों पे चिंगारी रखो, ज़िंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो, एक ही नदी के हैं ये दो किनारे दोस्तो, दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी रखो।[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]ये सोच कर मैं उसके बराबर नही गया दरया के पास कोई समंदर नही गया[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे, ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे, अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]बस यही सोच कर तुझसे मोहब्बत करता हूँ मैं फ़राज़, मेरा तो कोई नही है मगर तेरा तो कोई हो[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]लू भी चलती थी तो बादे-शबा कहते थे, पांव फैलाये अंधेरो को दिया कहते थे, उनका अंजाम तुझे याद नही है शायद, और भी लोग थे जो खुद को खुदा कहते थे।[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]इतना भी करम उनका कोई कम तो नही है गम देकर वो पूछे कोई गम तो नही है[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते, जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते, अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है, उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते।[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]लाख आफताब पास से हो कर गुज़र गए हम बैठे इंतिज़ार-ए-सहर देखते रहे[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]हालात मेरे इन दीनो पेचीदा बहुत हैं ज़ुल्फो मे कही तेरी कोई खम तो नही है[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]तेरी हर बात मोहब्बत में गँवारा करके, दिल के बाज़ार में बैठे हैं खसारा करके, मैं वो दरिया हूँ कि हर बूंद भंवर है जिसकी, तुमने अच्छा ही किया मुझसे किनारा करके।[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]चल मान लिया तेरा कोई दोष नही था हालाके दलीलो मे तेरी दम तो नही है[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]कितने ही आसमान धुंवा होते देख कर मैं अपनी सतह से कभी उपर नही गया[/su_note]

Rahat Indori Heart Touching Shayari

[su_note note_color=”#fff2cf”]कालेज के सब लड़के चुप हैं काग़ज़ की इक नाव लिये चारों तरफ़ दरिया की सूरत फैली हुई बेकारी है, अब फिरते हैं हम रिश्तों के रंग-बिरंगे ज़ख्म लिये सबसे हँस कर मिलना-जुलना बहुत बड़ी बीमारी है,[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]दौलत बाज़ू हिकमत गेसू शोहरत माथा गीबत होंठ इस औरत से बच कर रहना, ये औरत बाज़ारी है,[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]कश्ती पर आँच आ जाये तो हाथ कलम करवा देना लाओ मुझे पतवारें दे दो, मेरी ज़िम्मेदारी है…!![/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]हमने दो सौ साल से घर में तोते पाल के रखे हैं मीर तक़ी के शेर सुनाना कौन बड़ी फ़नकारी है,[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]मेरा घर आग की लपटों में छुपा हैं लेकिन जब मज़ा हैं तेरे आँगन में उजाला जाएँ,[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]सूरज, सितारे, चाँद मेरे साथ में रहें जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहें शाखों से टूट जाए वो पत्ते नहीं हैं हम आंधी से कोई कह दे की औकात में रहें[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]मेरे बेटे किसी से इश्क़ कर मगर हद से गुज़र जाने का नहीं[/su_note]

 

Read More: Gulzar Hindi Shayari, Poetry & Quotes

 

Rahat Indori Sad Shayari in Hindi

[su_note note_color=”#fff2cf”]वबा फैली हुई है हर तरफ अभी माहौल मर जाने का नहीं मौसमो का ख़याल रखा करो कुछ लहू मैं उबाल रखा करो लाख सूरज से दोस्ताना हो चंद जुगनू भी पाल रखा करो[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]हम अपने बूढे चिरागों पे खूब इतराए और उसको भूल गए जो हवा चलाता है..!![/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]आँखों में पानी रखों, होंठो पे चिंगारी रखो जिंदा रहना है तो तरकीबे बहुत सारी रखो आँखों में पानी रखों, होंठो पे चिंगारी रखो जिंदा रहना है तो तरकीबे बहुत सारी रखो[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]समन्दरों में मुआफिक हवा चलाता है जहाज़ खुद नहीं चलते खुदा चलाता है,[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]लवे दीयों की हवा में उछालते रहना गुलो के रंग पे तेजाब डालते रहना में नूर बन के ज़माने में फ़ैल जाऊँगा तुम आफताब में कीड़े निकालते रहना[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]मस्जिद में दूर दूर कोई दुसरा न था हम आज अपने आप से मिल जुल के आ गये,[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]काम सब गेरज़रुरी हैं, जो सब करते हैं और हम कुछ नहीं करते हैं, गजब करते हैं आप की नज़रों मैं, सूरज की हैं जितनी अजमत हम चरागों का भी, उतना ही अदब करते हैं[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]नईं – नईं का मतलब पुरानी उर्दू में नहीं होता है वबा – महामारी…!![/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]लोग हर मोड़ पे रुक रुक के संभलते क्यों हैं इतना डरते हैं तो फिर घर से निकलते क्यों हैं मोड़ होता हैं जवानी का संभलने के लिए और सब लोग यही आके फिसलते क्यों हैं[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]वबा फैली हुई है हर तरफ अभी माहौल मर जाने का नईं,[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]कभी महक की तरह हम गुलों से उड़ते हैं कभी धुएं की तरह पर्वतों से उड़ते हैं ये केचियाँ हमें उड़ने से खाक रोकेंगी की हम परों से नहीं हौसलों से उड़ते हैं[/su_note]

[su_note note_color=”#fff2cf”]बुलाती है मगर जाने का नईं  ये दुनिया है इधर जाने का नईं,[/su_note]

Olivia Alaina

I am Olivia Alaina, Founder & CEO at BeLoveSMS.com. In this website, I am trying to share Best and Unique Love SMS, Messages, Wishes, and Greetings for any type of Relationships, Celebrations, Occasions, and Emotions.

You may also like...